July 4, 2020
Breaking News

रातभर जागकर कढ़ाई करती-पिता सिलाई 2 भाई एक साथ बने IAS

मेरीकहानीमेरी_जुबानी

2 भाई एक साथ बने IAS; सपना मां-बाप ने देखा पूरा बेटों ने किया, मां रातभर जागकर कढ़ाई करती-पिता सिलाई करते, ताकि बेटों की पढ़ाई में कोई कसर न रह जाए

शहर के मोदी रोड पर रहने वाले सुभाष कुमावत और उनकी पत्नी राजेश्वरी देवी के चेहरे पर आज एक सुकून है। आंखों में एक गहराई सी है जो खुशियों से इतनी भरी है कि खुशी के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। घर में बधाइयां देने वालों का तांता लगा है और वे सबसे बड़ी विनम्रता के साथ मिल रहे हैं। हिचकिचाते से, ठिठकते से। ऐसा ही होता है जब किसी की बरसों की मेहनत, दिनरात जागने की तपस्या और हर पल संघर्ष, एक बड़ी सफलता में बदलता है। सुभाष सिलाई का काम करते हैं और राजेश्वरी देवी बंधेज बांधने का। उनके तीन बेटों में से दो का सिविल सर्विसेज में चयन हुआ है।

शुक्रवार को यूपीएससी की ओर से घोषित परिणाम में उनके बड़े बेटे पंकज कुमावत ने 443वीं और छोटे बेटे अमित कुमावत ने 600वीं रैंक प्राप्त की है। सुभाष कुमावत गुढ़ा मोड़ पर टेलरिंग का काम करते हैं। परिवार में दूसरा कोई आज तक सरकारी नौकरी में नहीं गया। पंकज कुमावत ने आईआईटी दिल्ली से मैकेनिकल में बीटेक किया। कुछ समय नोएड़ा की प्राइवेट कंपनी में नौकरी भी की। छोटे भाई अमित को भी अपने साथ रखा। उसने भी आईआईटी दिल्ली से बीटेक किया। दोनों दिल्ली में पढ़ाई करते रहे। दोनों का एक ही सपना था कि किसी भी तरह देश की इस सबसे बड़ी परीक्षा में सफल होना है। माता-पिता का सपना पूरा करना है। आज दोनों ने एक साथ यह सपना पूरा कर दिखाया।

पंकज व अमित बोले-हमारे लिए पढ़ना आसान था, माता-पिता के लिए पढ़ाना बहुत मुश्किल
पंकज व अमित ने बताया कि हम जानते हैं, हमें माता पिता ने कैसे पढ़ाया। हमारे लिए पढ़ना आसान था, लेकिन उनके लिए पढ़ाना बेहद मुश्किल। वे हमारी फीस, किताबों और ऐसी दूसरी चीजों का इंतजाम कैसे करते थे। इस बात को हम सिर्फ महसूस कर सकते हैं। इसका संघर्ष तो उन्होंने ही किया। घर की स्थिति कुछ खास नहीं थी। हम चार भाई बहनों को पढ़ाने के लिए मम्मी पापा सिलाई करते। घर पर रातभर जागते। मां तुरपाई करती और पापा सिलाई। वे हमेशा हमसे कहते कि तुम लोगों को पढ़कर बड़ा आदमी बनना है। यह सपना उन्होंने देखा। हमने तो बस उसे पूरा किया है। आज परिवार की स्थिति ठीक है, लेकिन हम यही कहना चाहते हैं कि कमियों, परेशानियों और नकारात्मक चीजों को कभी आड़े नहीं आने देना चाहिए। हमारी सफलता के लिए माता पिता बड़े सपने देखते हैं उन्हें पूरा करने के लिए सबसे जरूरी केवल मेहनत होती है। इसके बाद सफलता अपने आप मिलती है।

अपने आस पास बहुत से ऐसे लोगों को देखा होगा, बहुत से ऐसे लोगों के बारें में सुना या पढ़ा होगा जो निस्वार्थ भाव से दूसरों की मदद करते हैं, गरीबों की सेवा करते हैं, धर्म की दीवार को तोड़कर सभी धर्मों की एकता की बात करते हैं, गरीब बच्चों को पढ़ाते हैं, अनाथ बच्चों की पढ़ाई या खाने पीने का खर्च उठाते हैं, जानवरों की सुरक्षा या देखभाल करते हैं, बहुत ही गरीबी या मुश्किल स्थिति से गुजरते हुए भी हार नहीं मान रहे हैं, कोई सुविधा न होने के बावजूद भी पढना नहीं छोड़ रहें हैं, सामाजिक सन्देश देने के लिए कोई नया काम कर रहे हैं, आदि आदि। इस पहल में उन सभी लोगों की जिंदगी से जुडी और प्रेरणादायक कहानी प्रस्तुत की जाएगी जो समाज के लिए एक प्रेरणा हैं या एक मिसाल हैं।

और इस शुरुआत का मकसद सिर्फ लोगों को दूसरों की मदद करने के लिये, मुश्किलों और निराशाओं से बाहर निकलने के लिए, अपनी और दूसरों की जिंदगी में बदलाव लाने के लिए प्रेरित करना हैं। और मुझे विश्वास हैं कि मेरा ये प्रयास अपने मकसद में जरुर सफल होगा।

अगर आपके आसपास भी ऐसा कोई शख्स है, ऐसा कोई उदाहरण है, जो किसी भी तरह से अपनी और दूसरों की जिंदगी में बदलाव ला रहा है और दूसरों के लिए एक प्रेरणा है और आप उस शख्स की प्रेरणादायक कहानी लोगो को बताना चाहते हैं तो अपनी एक फोटो और अपने बारे में थोड़ी जानकारी जैसे- आपका नाम, जगह, क्या करते हैं? आदि के साथ उस शख्स की कहानी और सम्बंधित Image हमें [email protected] पर भेज सकते हैं। पसंद आने पर उस शख्स की कहानी आपके नाम और फोटो के साथ पोस्ट की जाएगी

“आप की कहानी, आप की ज़ुबानी। अपनी आपबीती हमें बताएँ, हम दुनिया को बताएँगे।”

धर्मवीर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *